Type Here to Get Search Results !

चश्मा उतार कर &&&&&&&&












नयनों से नयन मिलाईये ;  
चश्मा उतार कर I
होंठों को बन्द कीजिये ;
 चश्मा उतार कर ....II
बोलती तो आँखें हैं ,
पर्दा ना कीजिये I
बहाना धूप का ना कीजिये;
 चश्मा उतार कर.... II
छाजाये नभ में बादल ;
इन आँखों को देख करI
धरती की प्यास बुझाईये ; 
चश्मा उतार कर .....II
इन आँखों को देखने;
 सुरज दहक रहा हैI
  अब आप मान जाइए
   चश्मा उतार कर .....II  --.श्री राम राय
                   
                                      

एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
बेनामी ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.
Madan Mohan Saxena ने कहा…
iNTERSTING.

http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/