Type Here to Get Search Results !

सांस्कृतिक पटल के श्रीसाहित्य पोर्टल में आपका स्वागत है। आप भी मौलिक रचनाये व्हाट्सप्प ८११५२८५९२१ पर निःशुल्क भेज सकते हैं या संदेश भेजें बॉक्स का उपयोग करें ...

मुंशी प्रेमचंद महोत्सव, कविता, जीवन रूपी धारा प्रकृति-डॉ विजय लक्ष्मी

कविता

जीवन रूपी धारा प्रकृति,
    प्रकृति ही अनमोल उपहार,
प्रकृति से ही मानव-जीवन,
    प्रकृति में ही सुन्दर वास।
प्रकृति ने धरा पर देखो,
    हरियाली की मनमोहक छटा फैलाई,
रंग-बिरंगे प्यारे फूल,
    खिले हैं सारे उपवन देखो,
 मोह लेते हैं सबका मन,
    पानी का बहता समुन्दर,
रेतिला-रेगिस्तान कहीं पर,
   लेकिन मानव स्वार्थी होकर,
 करना तू इसका नुकसान,
  आधुनिकता की होड़ में,
मानव इतना खोया तू,
  बचाया नहीं हमने इसको तो,
 धर लेगी ये रुप विकराल,
जीवन-रूपी धारा प्रकृति,
प्रकृति ही अनमोल उपहार।
 प्रकृति में ही मानव-जीवन,
 प्रकृति से ही सुन्दर वास।
,@डॉ विजय लक्ष्मी

एक टिप्पणी भेजें

54 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
Suresh Karmakar ने कहा…
It is beautiful. So true in today's times.
Unknown ने कहा…
धन्यवाद
Unknown ने कहा…
Sahi baat aisa such me hone lge to sab log khus rahege bohot hi achchi story ha I
DILIP KUMAR ने कहा…
अत्यंत सुंदर कविता।
Dittu dorsao ने कहा…
अदभुत।
Dinesh Kumar ने कहा…
This poem can change the future for next generation
बनवारी लाल ने कहा…
आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करें।
Unknown ने कहा…
Bahut Sundar Kavita.
Jagdeep saanwaal ने कहा…
waah.
ओमकार शर्मा ने कहा…
आपका धन्यवाद इतनी सुंदर कविता के लिए।
Shakuntala devi ने कहा…
Bahut hi bhovpurn kavita hai
सुशील पाण्डेय ने कहा…
बेहतरीन।
Nirmala singh ने कहा…
Atayant sunder kavita hai ji
भगवती वर्मा ने कहा…
आपका जवाब नहीं।
Jagdeep ने कहा…
Life changing poem
Rijhim sen ने कहा…
Wow awesome poem mam
Yogesh ने कहा…
Fife ki ye baate main aapne bachcho ko bataunga
Harsh kaandpal ने कहा…
Namaskar madam ji .
Jagya chand ने कहा…
Nature se milan bhari kavita madam ji
Gaurav arya ने कहा…
Fantastic.
Salesh verma ने कहा…
Main aapka student ho madam ji Charan esparsh
Pradeep kumar ने कहा…
Educational and beneficial.
Deepa ने कहा…
Ari kitti badhiya kavaita likhi madam ji
Red Feather Studio ने कहा…
Bahut sundar kavita...
Mehdi kazmi ने कहा…
Very nice... अति-सुन्दर कविता..
Roopesh ने कहा…
Very beautiful
Pratik ने कहा…
Gr88888 sister.... keep it up
Ravish Katyal ने कहा…
Great poetry. Deserves to be acclaimed.
Unknown ने कहा…
❤️❤️
Unknown ने कहा…
लाजवाब
Unknown ने कहा…
अपनी पुस्तक की प्रतियाँ उपलब्ध करवाइए मैडम
बहुत अच्छा लेखन hai
Unknown ने कहा…
अत्यंत सुंदर कविता।
Unknown ने कहा…
Awesome poetry 👌


Jagveer ने कहा…
Bahut ji khub
Rampaal yadav ने कहा…
Main aapko follow karta hu
बेनामी ने कहा…
It's ture
Friend ने कहा…
Jabardast likha hai aapne
Bhutesh ने कहा…
It is a true and very lovely
Pawan ने कहा…
Bahut hi badhiya
Gagan ने कहा…
Sabse khoobsurat poem
बहुत सुंदर❤️❤️
Unknown ने कहा…
Very beautiful very natural
mokariya manish ने कहा…
Nice poem to think about.... current situation of nature ....we should also do whatever we do to save nature....
Unknown ने कहा…
Amazing 👌
बेनाम गुमनाम ने कहा…
भावपूर्ण
Dr Lokesh sharma ने कहा…
http://www.palolife.com/2020/07/blog-post_48.html