Type Here to Get Search Results !

मुंशी प्रेमचंद महोत्सव, पढिये कविता , डॉ लोकेश शर्मा


हमारे अंदर भी है रावण
क्यो पुतले जलाते हो
वो फिर भी मर्यादित था
खुद अपने अंदर झाक के देखो
सीता से केवल आग्रह करता रहा
मिथ्या भय से डराता रहा
हम प्रतिपल पाप करते है
अहंकारी बन विष उगलते है
हमारे अंदर भी रावण है......
नन्ही कली कुचली जाती है
बिन जन्मी कोख में मारी जाती
फिर भी मनुज शर्म नही आती
झूठ,फरेब का जीवन जीते
व्यक्तित्त्व चरित्र बिना रीते
हमारे अंदर भी रावण है.....
संस्कृति को तार तार कर डाला
बुजर्गो को जीते जी मार डाला
करते सदैव सुख अभिलाषा
जीवन की मानी यही परिभाषा
हमारे अंदर भी रावण है.....
सच तो है पुतला हम पर हँसता है
उसको पता है वो जिंदा है
करोड़ो लोगो के मन मे
अंतर्मन के रावण का अंत करे
बुराई को हमसे स्वतंत्र करे
---Dr Lokesh Sharma
Assistant professor
Mahila Mahavidyalaya Bandikui
sharma.lokesh696@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

83 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
Unknown ने कहा…
Bahut khub 👌👌👍
Unknown ने कहा…
Its very true keep it up
Unknown ने कहा…
बहुत अच्छा
Priyanka Bhardwaj ने कहा…
अति सुंदर कविता ।
सत्यम ने कहा…
वाकई भीतर का रावण ज़ियादह खतरनाक है।अच्छी रचना।
Unknown ने कहा…
बहोत सुन्दर।
Unknown ने कहा…
अति सुंदर
Dr Lokesh sharma ने कहा…
हार्दिक आभार
Dr Lokesh sharma ने कहा…
हार्दिक आभार जी
Gopal Lal Sharma ने कहा…
अति सुन्दर
Rajeev Trivedi ने कहा…
Very nice sir
Dr Lokesh sharma ने कहा…
हार्दिक आभार
Unknown ने कहा…
अति सुन्दर एवम् सटीक कविता...🙏👍👍
Dr Lokesh sharma ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Unknown ने कहा…
Nice sir ,इसमें लिखी हर बात सत्य है
Dr Lokesh sharma ने कहा…
हार्दिक आभार
Unknown ने कहा…
Very nice 👌👌👌
Dr Lokesh sharma ने कहा…
हार्दिक आभार
Sunil kumar ने कहा…
Very beautiful lines sir
बेनामी ने कहा…
Osm lines��������
Dr. Manoj kumar bhari ने कहा…
Realistic poem guiding us for introspection.
Dr Lokesh sharma ने कहा…
Thx sir your valuable support 💯
sunil sharma ने कहा…
उत्तम रचना
आम जनता ने कहा…
सुंदर प्रस्तुति
Unknown ने कहा…
शानदार बहुत खूब
Unknown ने कहा…
बहुत लाजवाब
आम जनता ने कहा…
हार्दिक आभार
Radhamohan gautam ने कहा…
सही बात ह जी
Radhamohan gautam ने कहा…
सही बात ह जी
Unknown ने कहा…
Everyone has to see himself
Unknown ने कहा…
If no Ravan no revolution