सुख की गोद हो, विश्वास की चदरिया, हम तुम हों दोनों, आहृलाद भरी प्रेम नगरिया ,सुषमा जी की प्यारी रचना_srisahitya

अटूट बंधन
                       ------------------------
   तुम  हो  मन  में,
   मन    है   तुझमें,
   तेरे  मेरे मन  का,
   अटूट   बंधन  है।

   क्या  जाने   मन,
   क्या   चाहता  है,
   हर जगह तू ही तू,
   नजर   आता  है ।
 
   मन  तो  है  दरिया,
   मन   आसमां   है,
   इस मन आसमां का,
   तूं   ही  चंद्रमा    है ।

   दरिया   का   पानी,
   लाए  जीवन रवानी,
   चंचल लहरों में दीखे,
   तेरी   छवि   सुहानी।

   पीले   कनेर  कुसुम,
   सोना बदन  तुम्हारा,
   फैली दूब  की चादर,
   तेरा आंचल लहराया।

   नदी   का   किनारा,
   मन  पागल  बौराया,
   हवाओं की मीठी छुवन,
   याद आए स्पर्श तुम्हारा।

   तुम  रुह   में  समाए ,
   तसव्वुर तेरी गुदगुदाए,
   देर   ना   करो    अब,
   चलो प्रेमा घरोदां बनाएं।

   तेरे   रुप   का   ऐसा,
   मस्त  जादू  चला  है,
   रंगे रजत चेहरा  तेरा,
   छांव  गेसू  लगता  है।

   ये  कैसा   नशा   है,
   अहा! क्या एहसास है,
   जिसके यादों में इतना सूकूं,
   साथ  का क्या कहना  है।

   सुख   की  गोद   हो,
   विश्वास  की  चदरिया,
   हम   तुम    हों  दोनों,
   आहृलाद भरी प्रेम नगरिया।
                
                     सुषमा सिंह
                    _____________
( स्वरचित एवं मौलिक)

कोई टिप्पणी नहीं