सुषमा सिंह की तीन ताजी रचनाओं में पढ़िए समय का नहीं कोई विकल्प, समय से हर कार्य तू कर, समय की महता तू समझ, जीवन सूर्य जाएगा चमक_srisahitya

 कुर्सी
      --------------------
   कुर्सी  के  साथ  छुपा  होता  है भय,
   कुर्सी और सता प्रपंचों का खुला खेल 

   हर्यक    हो    या   मुगल,
   कुर्सियों    के  हाथ  सदा,
   खून   सने   होते  अक्सर।

   अजातशत्रु  ने उठाया खड्ग,
   किया अपने  पिता का कत्ल,
   फिर  पाया  राजा  का   पद।

   गुरु  पिता  को किया  जिबाह,
   कहलाता  द  ग्रेट   अकबर,
   गुरु माता संग किया निकाह।

   शाहशुजा,    दारा शिकोह,
   छोड़  चुके  थे   कुर्सी  मोह,
   संकट समझ मारे गए बेवजह।

   महाराणा की उज्ज्वल गाथा पर,
   दाग   लगाये   शक्ति   जगमाल,
   कुर्सी हेतु दुश्मन से मिलाए  हाथ।

   कमोवेश आज भी स्थिति है वही,
   नैतिकता   का    ढोल, 
   कुर्सी  की क्रुर   नियति ।
                      सुषमा सिंह
                   -----------------------
2 भारत  की क्षत्राणियां
          ---------------------------------
   अपने  हाथों   तिलक  लगा,
   तलवारें  थमातीं  हैं  रानियां,
   रणवीरों  से  कम नहीं  होती,
   भारत       की     क्षत्राणियां
   
    कभी   रण    में    उतरती,
    कभी   रणनीति  गढ़ती  है,
    धर्मार्थ      रक्षार्थ      हेतु,
    धू  -धू  कर  जल  मरती  है,
    आने  ना  देती  आंच  कही,
    त्याग भरी होती जिन्दगानियां।
     
    रणवीरों  से कम----------

    वक्त    गर     आए     तो,
    देती   हैं   चूड़ियां    उतार,
    बांध  पृष्ठ पर दूधमुंहे  को,
    उठा   लेती    हैं   तलवार,
    रणांगन में चण्डी बन जाती,
    देती  हैं  हजारों  कुर्बानियां।

    रणवीरों  से  कम --------------

     मातृभूमि    की     खातिर,
     बेटे   को  दांव  पर लगाती,
     हिम्मत  ऐसी  कि  यम  से,
     भी     है     भिड     जाती,
     शौर्य  साहस  की  प्रतिमान,
     होती  हैं   ये   कोमलांगियां।

      रणवीरों  से  कम----------

     अहिल्याबाई    होलकर   के,
     किस्से    सब    जानते    हैं,
     राणीसा  जयवंता बाई   का,
     लोहा     सब     मानते    हैं,
     विमुख  ना  हो पति  युद्ध में
     सिर  सजा भिजवाती हैं थालियां।

     रणवीरों  से  कम----------

     रानी       दुर्गावती      से,
     मुगलिया फौज थर्राती थी,
     लक्ष्मी बाई  के देख  तेवर,
     शिकस्त अपनी तय मानते थे,
     खुद  को खंजर मार दहार की
     अमर  हो गयी  राजकुमारियां।
     
      रणवीरों   से कम----------
    
                        3 वर्तमान ही असल  जीवन
  ----------------------------------------
  निकला  सूरज  ले  नयी  किरण,
  बढाए  जा  हरपल  आगे  कदम,    
  हो   रहा  हर    क्षण ‌ का‌  क्षरण,
  भविष्य  से   शंकित   क्यों  मन,
  वर्तमान   ही    असल   जीवन ।

  एकमात्र      वर्तमान      सत्य,
  पल  पल  का  सदुपयोग  कर,
  भूत  भविष्य  की बातें  मिथ्या,
  समय  अपनी  गति  से  चलता,
  न आएगा  लौट जो  बीत  गया।

  समय  तो   नदी   का    प्रवाह,
  निरन्तर   होता   रहता  वहाव,
  सफलता के शिखर वही चढता,
  जो  अवसर  ना  व्यर्थ  गंवाता,
  समय  द्रुतगति से बढ़ता जाता।

  समय  का  नहीं  कोई  विकल्प,
  समय  से  हर   कार्य   तू   कर,
  समय   की   महता  तू   समझ,
  जीवन   सूर्य   जाएगा    चमक,
  कदमताल    समय   संग   कर।
                   सुषमा सिंह
               ________________
(स्वरचित एवं मौलिक)

कोई टिप्पणी नहीं