Type Here to Get Search Results !

सियासत के काम निराले बाहर उजले भीतर काले-soni


 क्या है आजादी का मतलब    
      ‌                          
देश स्वतंत्र आज है 
भारतीयों का राज है 
मां के सर पर ताज है
पर आजादी अभी मिली नहीं

1-आजादी के बाद मिला क्या
जन जन का यह कहना है
दो और दो को पांच कहो
अगर देश में रहना है
        हो गए नेता भ्रष्टाचारी
       आम आदमी की लाचारी
        घूम रहे डिग्री धारी
मन की कलियां खिली नहीं
पर आजादी अभी मिली नहीं
2-अर्थव्यवस्था चौपट हो गई
मिलता कोई न्याय नहीं
कूटनीति शोषण महंगाई
देता कोई ध्यान नहीं
       सियासत के काम निराले
       बाहर उजले भीतर काले
        दिन दिन बढ़ते गबन घोटाले
दीनों को राहत मिली नहीं  
पर आजादी अभी मिली नहीं
--कवि संत कुमार सारथि ,नवलगढ़                 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.